आपकी हथेली बता सकती है आपको कोई बिमारी तो नहीं

शरीर में जब कोई भी बिमारी पनपती है, तो हमारा शरीर उन्हें बाहरी तौर पर संकेतों के जरिये दर्शाता है। लेकिन हम जानकारी न होने की वजह से उन्हें समझ नहीं पाते और छोटी-मोटी समस्या समझ कर नज़रअंदाज कर देते हैं। लेकिन एक दिन जब थोड़ी ज़्यादा तकलीफ होने पर डॉक्टर के पास जाते हैं, तो जाँच में वह बिमारी सामने आती है, जिसका संकेत हमारा शरीर काफी पहले से देता आ रहा था। अब हम घबरा जाते हैं। अब यह बिमारी, हमारा पैसा, स्वास्थ्य और समय सबको प्रभावित करती है।

Hatho me pasina aana | हाथो में पसीना आना | Sweating in Hands
Aapki Hatheli Bata Sakati hai aapko koi Bimari to Nahi Image Source

हम अपने इस लेख में शरीर में छुपी उन संभावित बीमारियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके होने के संकेतों को हथेलियों द्वारा कुछ हद तक पहचाना जा सकता है। इससे हम बिमारी को बढ़ने से पहले ही रोक सकते हैं।

हथेली देख कर बिमारी को पहचानना-

हथेलियों और उँगलियों में सूजन होना- यदि किसी की हथेलियों और उगंलियों में आए दिन सूजन की समस्या होती हो अंगूठी फँस जाती हो साथ-साथ पैरों पर भी सूजन दिखती हो, तो यह हाइपोथायरायडिज्म, या थायराइड ग्रंथि की निष्क्रियता का संकेत हो सकता है।

Hatho ka kapna | हाथों का काँपना | Shaking hands
Hatheliyon aur Ungaliyon mein Sujan hona         Image Source

हाथों का काँपना- यदि किसी के हाथ अकारण ही हिलते हों, तो यह पार्किंसंस रोग (Parkinson’s disease) का संकेत हो सकता है। यह एक ऐसी समस्या हो सकती है। यह केन्द्रीय तंत्रिका तंत्र से जुड़ा एक विकार होता है, जिसमें केंद्रीय तंत्रिका ठीक से काम नहीं कर पाती।

यदि हथेलियों में बहुत ज़्यादा पसीना आता हो- यह शरीर के पसीने की ग्रंथियों के अत्यधिक सक्रिय होने यानी हाइपरहाइड्रोसिस (Hyperhidrosis) का एक संकेत हो सकती है। हाइपरहाइड्रोसिस के पीछे भी कई कारण, जैसे हृदय रोग, डायबिटीज, मानसिक विकार (चिंता, तनाव, अवसाद), हाइपरथायराइडिज्म जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

Hatho ka kapna | हाथों का काँपना | Shaking hands
Yadi Hatheliyon mein Bahut Jyada Pasina aata ho Image Source

हाथों की उगंलियों के रंग में बदलाव- यदि नाखूनों का रंग नीचे से सफ़ेद और उसकी ऊपर की किनारी भूरे रंग की नज़र आएं तो यह शरीर में रक्त की अत्यधिक कमी, कुछ हार्मोन्स का अत्यधिक निर्माण और गुर्दों की समस्या का संकेत हो सकती है।

सामान्य से ज़्यादा लाल और धब्बेदार हथेलियाँ- यदि हथेलियाँ ज़रूरत से ज़्यादा लाल हो और उनमें लाल-लाल धब्बे भी दिखाई देते हों, तो संभल जाइये यह लिवर की समस्या और शरीर में विषैले पदार्थों के जमा होने का संकेत हो सकता है। ऐसा रक्त में बढे विषैले तत्वों की मात्रा और उन पर पड़ने वाले दबाव के कारण होता है। वहीं यदि यह लक्षण गर्भवती महिला में दिख रहे हों तो वह सामान्य हो सकते हैं क्योंकि गर्भावस्था में महिला के शरीर में रक्त का बहाव तेज़ होता है और इससे उसकी रक्त वाहिकाओं को भी ज़्यादा काम करना पड़ता है।

Hatho me pasina aana | हाथो में पसीना आना | Sweating in Hands
Samany se Adhik Lal aur Dhabbedar Hatheliyaan                  Image Source

हथेलियों का पीलापन या सफ़ेदी- हथेलियों का सफ़ेद होना शरीर में रक्त की कमी का संकेत होता है। साथ ही शरीर में रक्त की कमी के पीछे और भी कई छोटी-बड़ी बीमारियां छुपी हो सकती हैं। वहीं पीलापन लिए हथेली लिवर में किसी प्रकार की कोई समस्या होने का संकेत होती है। उदाहरण के तौर पर पीलिया।

उँगलियों और अँगूठों का अत्यधिक ठंडा होना, सफेदी या नीलापन या झुनझुनी- यह रेनाद रोग (Raynaud’s disease) का संकेत हो सकता है। यह एक ऐसी समस्या होती है, जिसमें शरीर की सबसे छोटी और पतली रक्त वाहिकाएं और भी ज़्यादा सिकुड़ जाती हैं और उनसे रक्त का प्रवाह अच्छे से नहीं हो पाता।

उँगलियों के नाखूनों के पोरों और नाखूनों का फूल जाना- इस तरह का लक्षण हृदय रोगों और फेंफड़ों के रोगियों में देखने को मिलता है। साथ ही यदि साँस लेने में तकलीफ भी हो तो इन दोनों में से कोई भी बिमारी होने का संकेत हो सकता है।

उँगलियों के जोड़ों में सूजन- यह गठिया की बिमारी का संकेत हो सकती है। जब इस हिस्से को छुआ जाए तो वह गर्म प्रतीत होते हैं, और उनमें दर्द भी होता है।

Hatho ka kapna | हाथों का काँपना | Shaking hands
Ungliyo ke Jodo mein Dard aur Sujan Image Source

यदि इनमें से कोई भी संकेत आपको खुद के हाथो में, या परिवार के अन्य अन्य किसी सदस्य में दिखाई दे तो एक बार डॉक्टर से जाँच अवश्य करा लेनी चाहिए। ताकि कोई बिमारी हो भी तो उसे बढ़ने से रोका जा सके।

(Visited 127 times, 1 visits today)